Home / टेलीविज़न पत्रकारिता / टीवी मीडिया के न्यूज फॉर्मेट (पार्ट-3)

टीवी मीडिया के न्यूज फॉर्मेट (पार्ट-3)

संदीप कुमार।

एंकर विजुअल/शॉट
(Anchor VO, Anchor Shot, STD/VO)
टीवी न्यूज मीडिया का लोकप्रिय और सबसे ज्यादा चलने वाला फॉर्मेट एंकर विजुअल (या एंकर शॉट, एंकर वीओ) होता है। इसे अलग-अलग न्यूज चैनलों में अलग-अलग नाम से भी जाना जाता है। कई चैनलों में एंकर विजुअल को STD/VO भी कहा जाता है। यहां STD दरअसल स्टूडियो का शॉर्ट फॉर्म है और VO का मतलब वॉयस ओवर। यानी STD/VO का मतलब हुआ स्टूडियो से (एंकर के मार्फत) लाइव वॉयस ओवर होना।

जब भी कोई नई खबर आती है तो टीवी में उसे सबसे पहले STD/VO फॉर्मेट में पेश किया जाता है। प्रोड्यूसर उस खबर को लिखता है और एंकर उसे लाइव पढ़ता है यानी वॉयस ओवर करता है। STD/VO फॉर्मेट में एंकर स्क्रीन पर सामने आता है और चंद लाइनें पढ़ता है और कुछ ही सेकंड बाद, उस खबर से जुड़े विजुअल ऑन एयर कर दिया जाता है। यानी कुछ पल के लिए एंकर स्क्रीन पर दिखेगा और फिर स्टोरी से संबंधित शॉट्स चलने लगेंगे और एंकर पीछे से कमेंट्री करता रहेगा।

एंकर के पढ़ने के लिए जो कुछ लिखा जाता है वो टेली-प्रॉम्पटर (टीपी) पर रिफलेक्ट होता है और उसे एंकर पढ़ता जाता है। टेली-प्रॉम्पटर कैमरे के साथ जुड़ा होता है इसलिए दर्शक को लगता है कि एंकर सामने देख रहा है जबकि वो टेली-प्रॉम्पटर को देखकर पढ़ता जाता है। हालांकि कई दफा एंकर को खुद से भी पढ़ना होता है और बगैर टेक्स्ट सपोर्ट के लाइव कमेंट्री भी करनी होती है। कई वरिष्ठ एंकर को टीपी पर टेक्स्ट के सपोर्ट की जरूरत नहीं होती। अपनी वरिष्ठता और अनुभव के चलते वो ईयर-फोन पर किसी खबर के बारे में थोड़ी भी जानकारी मिल जाने पर वो संभाल लेते हैं।

उदाहरण
पीएम नरेंद्र मोदी ने बिहार के सहरसा की चुनावी रैली में आरजेडी सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव पर निशाना साधा। (यहां तक एंकर स्क्रीन पर दिखेगा)
TAKE VISUAL (यहां से एंकर नेपथ्य में चला जाएगा और स्क्रीन पर विजुअल आ जाएगा)
पीएम मोदी ने चारा घोटाले में सजायाफ्ता होने पर लालू के चुनाव पर लड़ने पर लगी रोक पर चुटकी ली और पूछा कि लालू ने आखिर ऐसा क्या पाप किया है कि कोर्ट ने उनके चुनाव लड़ने पर ही रोक लगा दी है।

STD/VO/SOT
अगर खबर से जुड़ी बाइट भी हो तो विजुअल के बाद उसे भी प्ले कर दिया जाए तो ये फॉर्मेट STD/VO/SOT कहलाता है। SOT बाइट का ही एक रूप है। SOT का फुल फॉर्म Sound on Tape होता है।

उदाहरण (पिछली खबर को ही आगे बढ़ाकर चलते हैं)
पीएम नरेंद्र मोदी ने बिहार के सहरसा की चुनावी रैली में आरजेडी सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव पर निशाना साधा। (यहां तक एंकर स्क्रीन पर दिखेगा)
TAKE VISUAL (यहां से एंकर नेपथ्य में चला जाएगा और स्क्रीन पर विजुअल आ जाएगा)
पीएम मोदी ने चारा घोटाले में सजायाफ्ता होने पर लालू के चुनाव पर लड़ने पर लगी रोक पर चुटकी ली और पूछा कि लालू ने आखिर ऐसा क्या पाप किया है कि कोर्ट ने उनके चुनाव लड़ने पर ही रोक लगा दी है।
TAKE BYTE (यहां से पीएम मोदी की बाइट चला देंगे)

STD/VO/GFX
कई बार अगर खबर से संबंधित कुछ ग्राफिक्स (GFX) हों तो उसे भी चला सकते हैं। कई बार कुछ खबरों में ग्राफिक्स बेहद जरूरी हो जाता है। जैसे कि पेट्रोल-डीजल के दाम बढ़े हों तो ये ग्राफिक्स के जरिए स्क्रीन पर ये बताना जरूरी हो जाता है कि पहले पेट्रोल-डीजल के रेट क्या थे और अब बढ़ोत्तरी के बाद नई दर क्या हो गई है ?

उदाहरण
महंगाई से जूझ रही जनता को महंगाई का एक और झटका लगा है और पेट्रोल की कीमतें एक बार फिर बढ़ा दी गई हैं। (यहां तक एंकर स्क्रीन पर दिखेगा)
TAKE VISUAL (यहां से एंकर नेपथ्य में चला जाएगा और स्क्रीन पर विजुअल आ जाएगा)
पेट्रोल की कीमत में प्रति लीटर 5 रुपए का इजाफा किया गया है। पिछले एक महीने के अंदर पेट्रोल की दरों में ये दूसरी बढ़ोत्तरी है।
TAKE GFX (स्क्रीन पर ग्राफिक्स चलेगा और एंकर उस पर कमेंट्री करेगा। ऐसा भी हो सकता है कि एंकर थोड़े पल के लिए स्क्रीन पर आए और फिर नेपथ्य में चला जाए और स्क्रीन पर ग्राफिक्स चले और वो उस पर कमेंट्री करता रहे)
आइए आपको बताते हैं कि महंगा होने के बाद आपके शहर में प्रति लीटर किस भाव से पेट्रोल बिकेगा। दिल्ली में पहले 50 रुपए प्रति लीटर पेट्रोल बिकता था जो बढ़ोत्तरी के बाद 60 रुपए में बिकेगा। इसी तरह, मुंबई में…

STD/VO/VOX-POP
STD/VO/GFX/VOX-POP
VOX-POP का मतलब जनता की राय से है जो VOX-POPULI का शॉर्ट फॉर्म है। किसी खास मुद्दे पर जब आम लोगों का बयान लिया जाता है तो उसे VOX-POP कहते हैं। जैसे पेट्रोल-डीजल की कीमत में इजाफे के बाद बाइक-कार वालों का बयान लेना, एलपीजी गैस सिलेंडर के दाम में बढ़ोत्तरी के बाद गृहणियों की राय लेना, परीक्षा का रिजल्ट आने के बाद छात्र-छात्राओं का बयान लेना, आम बजट-रेल बजट आने पर लोगों के विचार लेना आदि-आदि।

VOX-POP, बाइट से अलग चीज है। VOX-POP में हमेशा एक से ज्यादा लोगों यानी समूह के बयान आते हैं। अगर किसी एक शख्स का बयान चलाना है तो वो बाइट की श्रेणी में ही आएगा लेकिन अगर किसी मुद्दे पर तीन-चार लोगों के बयान एक साथ चलाए जाएं तो वो VOX-POP की कैटगरी में आएगा।

उदाहरण (पिछली खबर को ही आगे बढ़ाकर चलते हैं)
महंगाई से जूझ रही जनता को महंगाई का एक और झटका लगा है और पेट्रोल की कीमतें एक बार फिर बढ़ा दी गई हैं। (यहां तक एंकर स्क्रीन पर दिखेगा)
TAKE VISUAL (यहां से एंकर नेपथ्य में चला जाएगा और स्क्रीन पर विजुअल आ जाएगा)
पेट्रोल की कीमत में प्रति लीटर 5 रुपए का इजाफा किया गया है। पिछले एक महीने के अंदर पेट्रोल की दरों में ये दूसरी बढ़ोत्तरी है।
TAKE GFX (स्क्रीन पर ग्राफिक्स चलेगा और एंकर उस पर कमेंट्री करेगा। ऐसा भी हो सकता है कि एंकर थोड़े पल के लिए स्क्रीन पर आए और फिर नेपथ्य में चला जाए और स्क्रीन पर ग्राफिक्स चले और वो उस पर कमेंट्री करता रहे)
आइए आपको बताते हैं कि महंगा होने के बाद आपके शहर में प्रति लीटर किस भाव से पेट्रोल बिकेगा। दिल्ली में पहले 50 रुपए प्रति लीटर पेट्रोल बिकता था जो बढ़ोत्तरी के बाद 60 रुपए में बिकेगा। इसी तरह, मुंबई में…
TAKE VOX-POP (एंकर थोड़े पल के लिए स्क्रीन पर आए और बताए कि पेट्रोल के दाम बढ़ने पर लोगों की राय क्या है, वो जान लेते हैं और फिर इसके बाद VOX-POP चला दिया जाए)

संदीप कुमार, सीनियर प्रोड्यूसर, इंडिया न्यूज ,संपर्क: sandeepk.iimc@gmail.com

Check Also

CNN News room

टीवी रिपोर्टिंग सबसे तेज, लेकिन कठिन और चुनौती भरा काम

शैलेश और डॉ. ब्रजमोहन | पत्रकारिता में टीवी रिपोर्टिंग आज सबसे तेज, लेकिन कठिन और ...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *