Home / Communication

Communication

Fighting misinformation and defending free expression during COVID-19

Access Now releases “Fighting misinformation and defending free expression during COVID-19: recommendations for states While misinformation, disinformation, and state-sponsored propaganda are not unique to COVID-19, in the context of an unprecedented health crisis, these phenomena have posed a serious risk to public health as well as public action The world ...

Read More »

तकनीक के बियाबान में ‘सच’ कहाँ तलाशें ?

ओमप्रकाश दास जब ख़बरें या कोई सूचना, कोई संदेश वाहक एक जगह से दूसरी जगह ले जाता था और उसे सुनाता था तो निश्चित रूप से उसमें उस संदेशवाहक के अपने ज्ञान का समाजशास्त्र शामिल हो जाता होगा। यह भी हम सब जानते हैं कि जब कोई बात आप कहते ...

Read More »

तकनीक की विचारधारा और पूर्वाग्रह

ओमप्रकाश दास आज, जब तकनीक तेज़ी से बदल रही है, ऐसे में ये सोचना-समझना बहुत ज़रूरी हो जाता है कि आख़िर तकनीक और उसके लगातार बदलाव ने अपना क्या असर हमारी दुनिया पर डाला है। विशेषकर सूचना के प्रवाह पर, सामाजिक मूल्यों पर और उससे आगे बढ़कर वैश्विक राजनीति पर? ...

Read More »

दुनिया एक, स्वर अनेक : संचार और समाज, ऐतिहासिक आयाम

Many Voices One World, also known as the MacBride report, was a UNESCO publication of 1980 but still relevant to understand contemporary communication issues. The publication is a classic in the study of communication. The commission was chaired by Irish Nobel laureate Seán MacBride. Among the problems the report identified were concentration of the media, ...

Read More »

बड़ी खबर : निरंतरता को तोड़कर अचानक पेश की जाती है

कुमार कौस्तुभ। मीडिया, खासकर समाचारों की दुनिया की शब्दावली में ‘बड़ी खबर’ जाना-पहचाना टर्म है। आमतौर पर इसे ‘हेडलाइन’ भी माना जाता है। लेकिन, ‘हेडलाइन’ और ‘बड़ी खबर’ की टर्मिनोलॉजी में कुछ बुनियादी फर्क है जिसे ‘बड़ी खबर’ पर चर्चा करने से पहले साफ कर देना जरूरी है। टीवी और ...

Read More »

खबरों का खेल बनाम एजेंडा सेटिंग

विनीत उत्पल | मालूम हो कि एजेंडा सेटिंग तीन तरीके से होता है, मीडिया एजेंडा, जो मीडिया बहस करता है। दूसरा पब्लिक एजेंडा जिसे व्यक्तिगत तौर पर लोग बातचीत करते हैं और तीसरा पॉलिसी एजेंडा जिसे लेकर पॉलिसी बनाने वाले विचार करते हैं। इस बात से इंकार नहीं किया जा ...

Read More »

बाजार होड़ में फंसी विकास पत्रकारिता

अन्‍नू आनन्‍द। कोई भी रिपोर्ट/स्‍टोरी बेहतर और प्रभावी कैसे हो सकती है? अच्‍छी और प्रभावी स्‍टोरी की परिभाषा क्‍या है? समाचार कक्षों में बेहतर स्‍टोरी कौन सी होती है? अजीब बात यह है कि न्‍यूज रूम में इन मुददों पर कभी बहस नहीं होती? लेकिन फिर भी ‘रूचिकर और असरदार ...

Read More »

संचार के दायरे को तोड़ता सोशल मीडिया

विनीत उत्पल | सोशल मीडिया एक तरह से दुनिया के विभिन्न कोनों में बैठे उन लोगों से संवाद है जिनके पास इंटरनेट की सुविधा है। इसके जरिए ऐसा औजार पूरी दुनिया के लोगों के हाथ लगा है, जिसके जरिए वे न सिर्फ अपनी बातों को दुनिया के सामने रखते हैं, ...

Read More »

साक्षात्कार लेना भी एक कला है…

महेंद्र नारायण सिंह यादव। पत्रकारिता में साक्षात्कार लेना सबसे महत्वपूर्ण और सर्वाधिक इस्तेमाल में आने वाला कार्य है। साक्षात्कार औपचारिक हो सकता है, जो साक्षात्कार के रूप में सीधे ही प्रकाशित या प्रसारित किया जाता है, और अनौपचारिक भी हो सकता है, जिसके जरिए मिलने वाली जानकारी को पत्रकार अपनी ...

Read More »