Home / Tag Archives: डॉ. महर उद्दीन खां

Tag Archives: डॉ. महर उद्दीन खां

ग्रामीण पत्रकारिता: हर गांव एक खबर होता है

rural-journalism

डॉ. महर उद्दीन खां | भारत गांवों का देश है। शिक्षा के प्रसार के साथ अब गांवों में भी अखबारों और अन्य संचार माध्यमों की पहुंच हो गई है। अब गांव के लोग भी समाचारों में रुचि लेने लगे हैं। यही कारण है कि अब अखबारों में गांव की खबरों ...

Read More »

खबर के गुलदस्ते में शब्दों के फूल

news

डॉ. महर उद्दीन खां। माली जिस प्रकार गुलदस्ते का आकर्षक बनाने के लिए सुंदर-सुंदर फूलों का चयन करता है उसी प्रकार पत्रकार को भी अपनी खबर के गुलदस्ते को आकर्षक बनाने के लिए सुंदर, संक्षिप्त और सरल शब्दों का चयन करना चाहिए। भारी भरकम शब्दों के प्रयोग से खबर बोझिल ...

Read More »

साख बनाए रखनी है तो समाचार की पुष्टि अवश्य करें

verification

डॉ. महर उद्दीन खां। पत्रकारिता का एक नियम यह भी है कि सुनी सुनाई बात पर पूरा विश्वास न करें। जो भी सूचना आप को मिलती है उसे क्रास चैक अवश्‍य करना चाहिए । ऐसा न होने पर आप धोखा भी खा सकते हैं क्योंकि कई लोग पत्रकार को पटा ...

Read More »

सम्पादन : खबर अखबारी कारखाने का कच्चा माल होती है

news_paper_office_computer

डॉ. महर उद्दीन खां। रिपोर्टर समाचार लिखते समय उन सब बातों पर ध्यान नहीं दे पाता जो अखबार के और पाठक के लिए आवश्‍यक होती हैं। खबर को विस्तार देने के लिए कई बार अनावश्‍यक बातें भी लिख देता है। कई रिपोर्टर किसी नेता के भाषण को जैसा वह देता ...

Read More »

हिंदी पत्रकारिता की सदाबहार गलतियां

news_paper

डॉ. महर उद्दीन खां। पत्रकारिता के माध्यम से पाठकों तक अपनी बात पहुंचाने के लिए अन्य भाषाओं के शब्दों के प्रयोग को अनुचित नहीं कहा जा सकता मगर उन का सही प्रयोग किया जाना चाहिए। देखने में आता है कि जाने अनजाने या अज्ञानता वष कई उर्दू और अंग्रेजी शब्दों ...

Read More »